प्रवेश (Admission)

प्रवेश के लिये निर्धारित प्रपत्र पर निर्धारित अवधि में आवेदन करना पड़ता है। यह प्रपत्र कॉलेज के कर्यालय से नगद जमा करनें पर प्राप्त होता है। आवेदन पत्र के साथ आवश्यकता के अनुसार आई0 कॉम0/आई0 ए0/आई0 एस सी0/उच्चतर माध्यमिक अथवा बी0 कॉम0 की परिक्षा के मूल अंकपत्र की छायाप्रति किसी उत्तरदायी व्यक्ति द्वारा सत्यापित संलग्न रहनी चाहिए। मूल अंक पत्र प्रवेश के समय प्रस्तुत करना होगा। नामांकन के समय एक भी आवश्यक मूल कागजात प्रस्तुत नहीं करनें पर नामांकन से वंचित किया जा सकता है। I.A. एवं I. Sc. छात्रों के नामांकन के लिये न्यूनतम अंक 50 प्रतिशत एवं I.Com. के छत्रों के नामांकन के लिये न्यूनतम अंक 45 प्रतिशत निर्धारित है। कम्पार्टमेंट परीक्षा में उत्तीर्ण छात्रों के नामांकन के लिये उनके द्वारा कुल प्राप्त अंक में से 5% घटा देनें का प्रावधान है। मेघा सूची में चयनित आवेदक यदि Councelling-Cum- Admission के लिये निर्धारित तिथि तथा समय पर उपस्थित नहीं होंगे तो किसी भी स्थिति में बाद में उनका नामांकन नहीं किया जायेगा। प्रवेश के लिये उन आवेदन पत्रों पर विचार नहीं किया जाएगा जो अपूर्ण होंगे अथवा विश्वविद्यालय द्वार निर्धारित अंतिम तिथि के बाद  प्राप्त होंगे। डाक द्वर विलम्ब के लिये महाविद्यलय जिम्मेवार नहीं होगा। जो विद्यार्थी परीक्षा में वाणिज्य महाविद्यालय से उत्तीर्ण हैं, उन्हें छोड़कर अन्य सभी आवेदकों को अपनें कॉलेज के प्राचार्य अथवा प्रधानाध्यापक द्वारा हस्ताक्षरित स्थानांतरन प्रमाण पत्र भी पेश करना होगा।

विभिन्न कोटा सीटों पर नामांकन के लिए अलग-अलग आवेदन करना पड़ता है।

विकलांगता के आधार पर नामांकन का दावा करनें वाले आवेदकों को अपनें जिलों के सिविल सर्जन द्वारा निर्गत प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा, जिसमें विकलांगता का प्रतिशत अंकित हो तथा आवेदक का फोटो अभिप्रमाणित किया गया हो।

विदेशी नागरिक कोटा के आधार पर नामांकन के लिये भारत में स्थित संबंधित दूतावास का तथा नागरिकता का प्रमाण पत्र नामांकन के समय जमा करना आवश्यक है।

आरक्षण का लाभ प्राप्त करनें हेतु अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जन जातियों तथा अन्य पिछ्ड़े वर्ग के आवेदकों को आवेदन पत्र के साथ सिर्फ (एस0 डी0 ओ0) अनुमंडलाधिकारी अथवा जिलाधिकारी द्वारा निर्गत जाति प्रमाण पत्र संलग्न करना आवश्यक है। अन्य आवेदकों को अपनीं जाति नहीं लिखनीं है। रक्षा सेवा कोटा के अंतर्गत नामांकन के लिये यह आवश्यक है कि यदि सेवा निवृत रक्षा कर्मचारी हैं तो जिला सैनिक निदेशालय द्वारा निर्गत प्रमाण पत्र तथा कार्यरत रक्षा कर्मचारी हैं तो नियंत्रक अधिकारी का प्रमाण पत्र जमा करना आवश्यक है।


खेल कूद तथा ललित कला कोटा पर नामांकन के लिये उन्हीं आवेदक / आवेदिकओं का चयन किया जायेगा जो राष्ट्रीय/राज्य/विश्वविद्यालय स्तर पर प्रतिनिधित्व करनें का प्रमाण पत्र जमा करेंगे। पटना विश्वविद्यालय के शिक्षक एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारी के वार्ड के लिये निर्धारित सीटों पर नामांकन के लिये उस संस्थान के प्रमुख से प्राप्त प्रमाणपत्र देनें होंगे जिसमें वे कार्यरत हैं।

अनुत्तीर्ण छात्रों के आवेदन पत्र के साथ पूर्व विश्वविद्यालय परीक्षा पत्र प्रस्तुत करना होगा। उन्हें इस बात का उल्लेख करना होगा कि वे किस विषय या किन विषयों में और किस वर्ष अनुत्तीर्ण हुए हैं।

पुनः प्रवेश के लिये आवेदन पत्र देते समय Detained छात्रों को यह उल्लेख करना चाहिये कि इस महाविद्यालय में उनका नामांकन क्या था और वे किस वर्ष रोके गए थे। अन्य विश्वविद्यालयों से आनेंवाले छात्रों को प्रवेश के पूर्व सम्बद्ध विश्वविद्यालय के कुलसचिव से प्रव्रजन प्रमाण पत्र (Migration Certificate) तथा अपनें नाम के निबन्धन (Registration) की प्रतिलिपि प्रस्तुत करनीं होगी। प्रवेश के पूर्व उन्हें पटना विश्वविद्यालय से अनुमती भी लेनीं होगी। इसके लिये उन्हें 30 रूपये पेशगी के साथ आवश्यक प्रपत्र भरना होगा, जो प्राचार्य वाणिज्या महाविद्यालय के द्वारा पटना विश्वविद्यालय को भेजा जाएगा। .

आवेदकों को प्रवेश लेनें के समय मूल प्रमण पत्र, अंक पत्र, अनुमंडलाधिकारी अथवा जिलाधिकारी द्वारा निर्गत जाति प्रमाण पत्र तथा पासपोर्ट आकार के दो फोटो भी देनें होंगे।

सेवारत (In Service) आवेदकों को नियोक्ता द्वारा निर्गत अनापत्ति प्रमण पत्र देन होगा।

नामांकन की सूचना अलग से नहीं दी जएगी।

• नामांकन के लिये आवेदक को Counseling cum Admission के लिये निर्धारित तिथि एवं सयम पर मूल प्रमाण पत्र के साथ उपस्थित होना होगा।

• I. Com./I. Sc./I.A./ CBSE /ICSE के निर्धारित विषयों के अंकों ग्रेड के आधार पर B. Com. में नामांकन के लिये चयन किया जाएगा एवं B.Com. में प्रप्तांकों के आधार पर M. Com. में नामांकन के लिये चयन किया जायेगा।

• भिन्न-भिन्न खेलकूद एवं ललित कला सीटों पर नामांकन के लिये अलग-अलग फार्म भरना होगा।

• प्रत्येक आवेदक एवं उसके अभिभावक को इस प्रकार की घोषणा पर हस्ताक्षर करना होगा “ मैं विश्वास दिलाता हूं कि कॉलेज में प्रतिपाल्य (वार्ड) के निर्वाह के लिये मेरे पास समुचित साधन है। मैं कॉलेज में उसके सदव्यवहार एवं सदचर का दायित्व भी अपनें उपर लेता हूं। यह भार भी मैं लेता हूं कि वह महाविद्यालय तथा विश्वविद्यालय के आदेशों एवं नियमों का पूर्ण पालन करेगा ”

• फर्जी/जाली प्रमाण पत्र प्रस्तुत कर नामांकन लेनें पर नामांकन रद्द कर दिया जाएगा।

• चार प्रतिष्ठा समूह में से केवल (A) Accounting Group की पढाई वर्त्तमान मेंउपलब्ध है।

किसी भी ऐसे अभियार्थी का नामांकन नहीं किया जाएगा जिन्हें कुलपति के विचार में विश्वविद्यालय के हित को ध्यान में रखते हुए नामांकन नहीं किया जाना चाहिये।

Re- Admission पुनर्नामांकन

वर्तमान सत्र के लिये विश्वविद्यालय परीक्षा उत्तीर्ण होनें के पश्चात अगले सत्र के लिये नामांकन एक माह के भीतर कराना आवश्यक है।
समय-सारणी एवं वर्ग प्रबंधन
शिक्षण कार्य महाविद्यालय की समय सारणी के अनुसार होता है। समय-सारणी संबंधी सभी समस्याएं प्रभारी प्राध्यापक के समक्ष लानी चाहिए। प्रभारी प्राध्यापक हैं – डा0 रेयाजुद्दीन
वर्ग संचालन
सभी वर्गों में अनिवार्य तथा वैकल्पिक विषयों के लिये व्याख्यान होते है। सामान्यत : प्रत्येक विषय के लिये सप्ताह मे 2 या 3 व्याख्यन होते है जिनमें छात्रों की उपस्थिति अनिवार्य है। यदि विद्यार्थी वर्ग में अनुपस्थित रहते हैं तो विश्वविद्यालय परीक्षा में अभिप्रेषण (Sent-up) योग्य नहीं माने जाएंगें।
सभी छात्रो को ध्यान में रखना है कि दिये गए व्याख्यान में से कम से कम 75 प्रतिशत उपस्थिति अनिवार्य रूप से होनी चाहिये। अन्यथा छात्र विश्वविद्यालय परीक्षा के लिये अभिप्रेषित (Sent-up) नहीं किये जाएँगे। जो छात्र /छात्रा अस्वस्थ होनें के कारण वर्ग में उपस्थित होनें मे अक्षम होते हैं, उन्हें तत्क्षण चिकित्सा पदधिकारी द्वारा प्रदत्त प्रमाण पत्र संलग्न करते हुए आवेदन देना होगा।

प्रत्येक छात्र को इस आशय का शपथपत्र देना होगा कि वे दिये गए व्याख्यानों में से 75 प्रतिशत व्यख्यान में उपस्थित अनिवार्य रूप से रहेंगे। यदि वे ऐसा नहीं करते तो उन्हें विश्वविद्यालय परीक्षा के लिये  अभिप्रेषित (Sent-up) नहीं किये जाए जिसकी जिम्मेदारी स्वयं उन पर होगी।